Coin Vs Token

क्या आप कॉइन और टोकन को लेकर उलझन में हैं? कॉइन टोकन के बीच क्या अन्तर हैं? इनके क्या मतलब और इस्तेमाल है? तो फिर यह article आपको कॉइन और टोकन के बारे में सभी उपयोगी चीजों को जानने में सहायता करेगा|
आज क्रिप्टोकरेंसी के बाजार में करीब 1500 से भी अधिक क्रिप्टोकरेंसी हैं और हम इन्हें दो भागों में विभाजित कर सकते हैं पहला कॉइन और दूसरा टोकन|

कॉइन

हम कॉइन को दो उप-भागों में विभाजित कर सकते हैं, पहला बिटकॉइन और दूसरा Altcoin। बिटकॉइन सभी क्रिप्टोकरेंसी कॉइन का मुख्य कॉइन है और Altcoin को हम alternative कॉइन भी बोलते है जैसे ethereum, Ripple, Litecoin और बहुत से कॉइन को हम altcoin कहते है| अधिकतर altcoins बिटकॉइन के मौजूदा souce कोड को संशोधन करके या वे बिटकॉइन के Hardfork द्वारा बनी होती है|
अब सवाल आता है की hardfork क्या है? तो सरल शब्द में hardfork एक ऐसी प्रक्रिया है जिसमे बिटकॉइन के मौजूदा source कोड को संशोधित किया जाता है जहाँ कुछ पुराने प्रोटोकॉल को नए प्रोटोकॉल से बदल दिया जाता है, तो इस प्रक्रिया को hardfork कहा जाता है और इस प्रक्रिया से कुछ नए coins भी बनते हैं जैसे बिटकॉइन कैश और बिटकॉइन गोल्ड इत्यादि । hardfork की प्रकिया को हम ऐसे भी समझ सकते है जैसे किसी सॉफ्टवेयर के कुछ कमियों को दूर करने के लिए उसमे कुछ बदलाव लाये जाते है ठीक उसी तरह बिटकॉइन में भी बदलाव लाने के लिए hardfork की प्रक्रिया को किया जाता है|

coin

टोकन

टोकन क्रिप्टोकरेंसी का एक हिस्सा है, यह एक ऐसी मुद्रा है जो कि किसी प्रोजेक्ट से जुड़ा हुआ होता है और उस प्रोजेक्ट से संबंधित सेवाओं का उपयोग करने के लिए विकसित किया जाता है। जैसा कि आप सभी जानते हैं कि क्रिप्टोकरेंसी एक decentralized करेंसी है, और आज बाजार में क्रिप्टोकरेंसी के आधार पर बहुत सारी प्रोजेक्ट उपलब्ध हैं और समय-समय पर ऐसे बहुत सारे प्रोजेक्ट आते भीं रहते है जो क्रिप्टोकरेंसी पर आधारित होती है इसलिए, ये प्रोजेक्ट अपने सेवाओं का उपयोग करने के लिए टोकन बनाती है जिससे कोई भी व्यक्ति दुनिया भर में कही से भी इन प्रकार की प्रोजेक्ट के सेवाओं का उपयोग कर सके||
उदहारण के लिए bitdegree जो कि क्रिप्टोकरेंसी पर आधारित एक शैक्षिक प्रोजेक्ट है तो अगर आप bitdegree के माध्यम से किसी भी कोर्स को पढना चाहते हैं तो आप उस कोर्स के लिए bitdegree के टोकन का उपयोग कर सकते हैं|

simple-token

कॉइन और टोकन के बीच अंतर

1- कॉइन और टोकन लगभग समान हैं लेकिन उनके बीच मुख्य अंतर उनकी संरचना में है। कॉइन एक पूर्ण करेंसी है जो कहीं भी किसी भी सेवा का उपयोग करने के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है। लेकिन टोकन एक पूरी प्रोजेक्ट से जुड़ा हुआ होता है है जिसका उपयोग केवल उन सेवाओं तक ही सीमित है जो कि उस प्रोजेक्ट से संबंधित हैं जिस प्रोजेक्ट का वह कॉइन है।
उदाहरण के लिए, यदि आप ब्लैकबेरी शोरूम से कपड़े खरीदते हैं तो आपने कुछ point दिए जाते है जो आप अपनी अगली खरीदारी में redeem कर सकते हैं। तो यह point ब्लैकबेरी शोरूम में करेंसी के रूप में काम करता है,लेकिन अगर आप इन point का उपयोग कही और करते है तो इनकी कोई भी वैल्यू नहीं होती है|

2- दूसरा अंतर यह है कि हर कॉइन का अपना ब्लॉकचैन होते हैं लेकिन टोकन किसी न किसी कॉइन के ब्लॉकचैन पे आधारित होता हैं। तो कॉइन की तुलना में टोकन को बनाना सरल है।

Coins-vs-Tokens-1

दोस्तों उम्मीद हैं कि इस article ने आपको कॉइन और टोकन के बारे मे , इनके इस्तेमाल और दोनों के बीच के महत्वपूर्ण अंतर को जानने में मदद किया होगा|

हमें नीचे दिए गए कमेंट बॉक्स में अपने विचारों को बताएं |

यदि आपको यह article पसंद आया तो आप हमारे Youtube चैनल को subscribe कर सकते है जहाँ आपको क्रिप्टोकरेंसी से सम्बंधित काफी videos मिलती रहेंगी | आप हमे Facebook,Twitter,Instagram और Telegram पे भी फॉलो कर सकते है|

1 comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *